नई दिल्ली: किसी भी पुरुष की पौरुष शक्ति उसके स्वास्थ्य पर निर्भर करती है. इसलिए जरूरी है कि शरीर की किसी भी प्रकार की समस्या का उपचार समय पर करने के लिए उचित उपाय अपनाए जाएं. स्पर्म, प्रजनन के लिए बेहद आवश्यक कंपोनेंट होते हैं. लेकिन उल्टा-सीधा खानपान कई पुरुषों में स्पर्म काउंट घटने की वजह बन रहा है. लिहाजा लोगों को स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए भी काफी समस्या का सामना करना पड़ता है.

देश के मश्हूर आयुर्वेद डॉ. अबरार मुल्तानी की मानें तो आपका स्पर्म काउंट यानी शुक्राणु की संख्या कितनी है, इसका संबंध खान-पान से भी है. आप जो खाते हैं उसी से शरीर की सारी गतिविधियां निर्धारित होती हैं. खासतौर से फैमिली प्लान करने वालों को शारीरिक रूप से खुद को पूरी तरह तैयार कर लेना चाहिए.

फर्टिलिटी डाइट महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों के लिए भी बहुत मायने रखती है. लिहाजा कुछ फूड स्पर्म काउंट बढ़ाने के साथ इसकी क्वालिटी भी बेहतर करते हैं. इस खबर में हम आपको पांच ऐसे फूड्स के बारे में बता रहे हैं, जो स्पर्म काउंट बढ़ाने में मदद करते हैं.

इन पांच फूड्स का सेवन करें

1. अनार के जूस का सेवन
डॉ. अबरार मुल्तानी के अनुसार, अनार के जूस में में पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट टेस्टोस्टेरोन के स्तर में सुधार करता है. इससे पुरुषों की यौन इच्छा बढ़ती है और स्पर्म का विकास बेहतर तरीके से होता है.

2. कद्दू के बीज का सेवन
कद्दू के बीज में बहुत सारा जिंक पाया जाता है. जिंक पुरुषों में फर्टिलिटी बढ़ाने वाले जरूरी मिनरल्स में से एक है. ये टेस्टोस्टेरोन, स्पर्म मोटिलिटी और स्पर्म काउंट भी बढ़ाता है.

3. सैल्मन और सार्डिन फिश
कुछ मछलियों में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है. खासतौर से सैल्मन, मैकेरल, टूना, हेरिंग और सार्डिन फिश में पाया जाने वाला ओमेगा-3 फैटी एसिड स्पर्म क्वालिटी और काउंट सुधारने में मदद करता है. यही वजह है कि जिन पुरुषों को यौन संबंधी समस्या रहती है उन्हें ये फिश खाने की सलाह दी जाती है.

4. संतरे का सेवन
संतरा विटामिन C से भरपूर होता है और स्टडीज में ये बात साबित हो चुकी है कि विटामिन C स्पर्म मोटिलिटी, काउंट और इसकी बनावट में सुधार करता है. विटामिन C वाले अन्य फूड जैसे कि टमाटर, ब्रोकली और बंद गोभी को अपनी डाइट में शामिल करें.

5. डार्क चॉकलेट

एक्सपर्ट्स डॉ. अबरार मुल्तानी बताते हैं कि डार्क चॉकलेट में आर्जिनिन नाम का एमिनो एसिड होता है. ये स्पर्म काउंट और क्वालिटी में सुधार कर सकता है.

ये भी पढ़ें:  40 की उम्र के बाद महिलाओं के लिए 5 जरूरी टेस्ट, खतरनाक बीमारियों के बारे में देते हैं संकेत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *