Zee News Hindi: Entertainment News

मुंबई: अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) और मुंबई पुलिस के बीच सुशांत सिंह सुसाइड (Sushant Singh Suicide) मामले में अजीब सी तनातनी चल रही है. दोनों एक दूसरे के ऊपर सहयोग न करने का आरोप लगा रहे हैं.

22 जुलाई को शाम को कंगना रनौत की तरफ से ट्वीट किया गया है कि मुंबई पुलिस की तरफ से उन्हें कोई सम्मन नहीं मिला है. हालां​कि 2 हफ्ते से उनकी बहन रंगोली के पास पुलिस के “casual calls” जरूर आये हैं. कंगना अपना स्टेटमेंट रिकॉर्ड करवाना चाहती हैं लेकिन मुंबई पुलिस की तरफ से उन्हें सहयोग नहीं मिल रहा.

दूसरी तरफ मुंबई पुलिस भी उल्टा कंगना पर आरोप लगा रही है. पुलिस के सूत्रों के मुताबिक 3 जुलाई को मुंबई पुलिस कंगना के फ्लैट पर सम्मन ले कर गई थी और 4 जुलाई को कंगना को बांद्रा पुलिस स्टेशन में बुलाया था.

लेकिन कंगना की मैनेजर अमृता दत्त ने सम्मन लेने से इनकार कर दिया. जब पुलिस ने कंगना से बात करने के लिए उनकी मैनेजर से नंबर मांगा तो मैनेजर ने अपना ही नंबर पुलिस को दिया. अब कंगना की बहन रंगोली से पुलिस ने संपर्क किया है, तो रंगोली का कहना है कि पुलिस अपने सवाल कंगना को लिख कर भेज दे, वो अपने जवाब मुंबई पुलिस को ईमेल कर देंगी.

सवाल ये है कि महज एक स्टेटमेंट रिकॉर्ड करवाने के लिए दोनों पक्ष एक आम राय कायम क्यों नहीं कर पा रहे हैं. 

बता दें कि सुशांत के निधन के बाद सबसे पहले वीडियो जारी कर बॉलीवुड में नेपोटिज्म (भाई- भतीजावाद) पर बहस शुरू करने वालीं एक्ट्रेस कंगना रनौत ने दावा किया है कि अगर वो अपने आरोप साबित नहीं कर पाईं तो सरकार द्वारा दी गई सबसे प्रतिष्ठ‍ित अवॉर्ड पद्मश्री लौटा देंगी. कंगना रनौत ने कहा था कि मुंबई पुलिस ने उन्हें बयान देने के लिए बुलाया, लेकिन वह अभी मनाली में हैं, फिर भी वह बयान देने के लिए तैयार हैं. 

कंगना ने मुंबई पुलिस से कहा, ‘क्या आप किसी को मेरा बयान लेने के लिए मेरे यहां भेज सकते हैं, लेक‍िन उसके बाद मुझे कोई जवाब नहीं मिला.’

कंगना रनौत ने अपनी बातों को आगे बढ़ाते हुए कहा, ‘मैं बता रही हूं कि अगर मैंने कुछ ऐसा कह दिया हो, जिसकी मैं गवाही नहीं दे सकती, जिसे मैं साबित नहीं कर सकती और जो जनता के हित में नहीं है, तो मैं अपना पद्मश्री लौटा दूंगी. ऐसे में फिर मैं इस सम्मान के लायक नहीं हूं.’

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *