Breaking News

Sharif made a big statement on the investigation report of son-in-law Safdar Awan’s arrest case | दामाद सफदर अवान की गिरफ्तारी मामले की जांच रिपोर्ट पर शरीफ ने दिया बड़ा बयान

Zee News Hindi: World News

इस्‍लामाबाद: पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) के सुप्रीमो नवाज शरीफ ने अपने दामाद सेवानिवृत्त कैप्टन सफदर अवान की गिरफ्तारी के मामले में सेना द्वारा की गई जांच की रिपोर्ट को ‘कवर-अप’ करार दिया है. डॉन न्‍यूज की रिपोर्ट के मुताबिक शरीफ ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा, ‘कराची की घटना पर आई जांच रिपोर्ट में जूनियर्स को बलि का बकरा बनाया गया है और असली अपराधियों को बचाने की कोशिश की गई है, कुल मिलाकर मामले को कवर-अप किया गया है.’ 

गठबंधन ने लोकतंत्र की जीत बताया 
किसी अन्य पीएमएल-एन नेता ने रिपोर्ट पर पार्टी की ओर से कोई अधिकारिक टिप्पणी नहीं की है. हालांकि, पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (PDM) के प्रवक्ता मियां इफ्तिखार हुसैन ने जांच को ‘लोकतांत्रिक ताकतों की जीत’ करार दिया है. उन्होंने कहा है, ‘अब जिम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाया जाना चाहिए. पीडीएम इस संबंध में और विचार-विमर्श करेगा.’

इस बीच पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने भी इसे ‘अच्छी खबर’ बताया है. गिलगित-बाल्टिस्तान में गुलमिट में एक सार्वजनिक कार्यक्रम में बिलावल ने कहा, ‘एक अच्छी खबर मिली है कि चीफ ऑफ आर्मी स्‍टॉफ ने जिस जांच का आदेश दिया था, वह जांच पूरी हो गई है. साथ ही कार्रवाई भी की गई है. हमें इस कदम का स्वागत करना चाहिए.’ 

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान ने माना, मुंबई के 26/11 हमले में शामिल थे लश्कर के आतंकवादी

वहीं पाकिस्तान सेना ने मंगलवार को कहा कि उसने गुप्त खुफिया एजेंसी, आईएसआई और रेंजर्स के अधिकारियों को सिंध आईजीपी मुश्ताक मेहर के ‘अपहरण’ का दोषी पाया है. साथ ही एक मामले में कैप्‍टन अवान की अतिउत्‍साह में की गई गिरफ्तारी से जुड़ा पाया गया है. उन अधिकारियों को पदों से हटा दिया गया.

सैन्‍य मामलों की मीडिया विंग,  इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) ने एक बयान में कहा कि चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ जनरल कमर जावेद बाजवा के आदेश पर सिंध इंस्पेक्टर जनरल की शिकायतों के निवारण के लिए की गई जांच पूरी हो गई है. 

बता दें कि मामला 19 अक्‍टूबर को होटल के कमरे से पीएमएल-एन नेता मरयम नवाज के पति अवान की गिरफ्तारी का है. जिसके लिए आईजीपी मेहर पर दबाव बनाया गया था और इसके विरोध में सिंध के लगभग सभी पुलिस अधिकारियों ने सामूहिक छुट्टी के लिए आवेदन दे दिया था.

पीएमएल-एन के प्रवक्ता मुहम्मद जुबैर ने कहा था कि रेंजरों ने सिंघ के आईजीपी का ‘अपहरण’ किया और उन्‍हें सफदर की गिरफ्तारी के लिए एफआईआर दर्ज करने के लिए मजबूर किया.

 

Check Also

कोभिड नेपालः विदेशबाट नेपाली श्रमिकले कहिलेबाट सहजै घर फर्किन पाउलान्?

३ घण्टा पहिले तस्बिर स्रोत, RSS कोरोनाभाइरस महामारीको अर्को लहर फैलिएको बेला खाडीका विभिन्न देश …

कोभिड नेपाल: २६ सय कोरोना भाइरस सङ्क्रमित थपिए, ३९ जनाको मृत्यु

१७ जुन २०२१, १७:०४ +०५४५ ५० मिनेट पहिले अद्यावधिक तस्बिर स्रोत, EPA नेपालमा थप २,६०७ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *