नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में स्थित राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल (Rajiv Gandhi Super Speciality Hospital) के नर्सिंग स्टाफ (Nursing Staff) ने अस्पताल प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. रविवार को अस्पताल द्वारा क्वारंटीन लीव (Quarantine Leave) की सुविधा बंद करने का विरोध जताते हुए स्टाफ ने इस फैसले को जल्द से जल्द वापस लेने की मांग की है.

मेडिकल डायरेक्टर को चिट्ठी लिखी की ये मांग
दिल्ली नर्सेज एसोसिएशन भी स्टाफ की मदद के लिए मोर्चे में शामिल हो गया है. फेडरेशन के जनरल सेक्रेटरी ने अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर को चिट्ठी लिखकर तुरंत फैसला वापस लेने की मांग की है. उनका कहना है कि क्वारंटीन लीव बंद करने का फैसला गैरकानूनी है. और सरकार द्वारा जारी की गई कोरोना गाइडलाइन का भी उल्लंघन है. 

27 नवंबर को बिना नर्सिंग स्टाफ के चलेगा अस्पताल!
अस्पताल प्रशासन के इस फैसले के खिलाफ कल यानी 23 नवंबर को राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का नर्सिंग स्टाफ पूरे दिन काला रिबन बांधकर विरोध जताएगा. वहीं मांग पूरी न होने पर 25 नवंबर की सुबह 10-12 बजे के बीच नॉन कॉपरेशन मूवमेंट करेगा. और अगर इसके बावजूद मांग पूरी नहीं होती है तो 27 नवंबर को पूरा नर्सिंग स्टाफ छुट्टी पर चला जाएगा.

कोरोना नियमों को उल्लंघन करने पर दो बाजार किए गए बंद
बताते चलें की दिल्ली कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं. ऐसे में राज्य सरकार कोरोना नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्ती का रुख अपना रही है. रविवार को भी कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन करने पर नांगलोई में शाम के समय लगने वाले दो बाजारों को बंद करने का आदेश जारी कर दिया गया है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पश्चिम दिल्ली में जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने रविवार को एक आदेश जारी कर पंजाबी बस्ती बाजार तथा जनता मार्केट को 30 नवंबर तक बंद करने का निर्देश दिया. बता दें कि शाम के समय लगने वाले इन बाजारों में करीब 200 दुकानदार रोजमर्रा के उपयोगी अनेक सामान की दुकानें लगाते हैं.

LIVE TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *