अबु धाबी. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 13वें सीजन में आज शाम को इस लीग की दो सबसे सफल टीमों के बीच उद्घाटन मैच खेला जाएगा. मैच के दौरान पिछली चैंपियन मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) और रनरअप चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai Super Kings), दोनों की ही निगाहें विनिंग स्टार्ट पर रहेगी. लेकिन आईपीएल के पहले मैच में जीतकर “पोल पोजिशन” कौन हासिल करता है. इसका फैसला मैच के बाद ही होगा. हालांकि यूएई में अलग परिस्थितियां होने के चलते दोनों ही टीमों के लिए चुनौती बेहद मुश्किल रहेगी. लीग में अभी तक दोनों टीमों ने कुल 30 मैच खेले हैं। 18 बार मुंबई इंडियंस को जीत मिली है और 12 बार सीएसके के हिस्से जीत आई है.

चेन्नई को उबरना होगा रैना-भज्जी के जाने से
चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के सामने अपनी टीम को रैना-भज्जी प्रकरण के प्रभाव से उबारने की चुनौती है. लीग से पहले ही दिग्गज बल्लेबाज सुरेश रैना (Suresh Raina) और दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने व्यक्तिगत कारणों से लीग से नाम वापस ले लिया था. लीग में सबसे ज्यादा रन बनाने वालों में रैना दूसरे नंबर पर हैं तो हरभजन के नाम पर लीग में तीसरे नंबर पर सबसे ज्यादा विकेट हैं. दोनों ने ही कई बार टीम को मुश्किलों से उबारा है. 

ऐसे में कप्तान धोनी के लिए इन दोनों की भरपाई करना मुश्किल होगा. लेकिन धोनी वो कप्तान माने जाते हैं, जो किसी भी सूरत में टीम को संभाल लेते हैं और निश्चित तौर रैना-भज्जी के बिना टीम को आगे कैसे ले जाना है, यह धोनी ने सोच लिया होगा. माना जा रहा है कि धोनी रैना की जगह पर केदार जाधव (Kedar Jadhav) को तीसरे नंबर पर उतार सकते हैं. इसी तरह भज्जी के जाने के चलते टीम में पीयूष चावला (Piyush Chawla) का आखिरी इलेवन में रहना पक्का हो गया है. हालांकि धोनी कोई चौंकाने वाला फैसला भी कर सकते हैं.

ये रह सकती है चेन्नई की टीम
चेन्नई टीम की ओपनिंग शेन वाटसन (Shane Watson) और अंबाती रायडू (Ambati Rayudu) उतर सकते हैं. हालांकि विदेशी क्रिकेटर संयोजन में फिट बैठे तो फाफ डु प्लेसिस (Faf Du Plesis) भी वाटसन के साथ ओपनिंग कर सकते हैं. आखिरी 4 विदेशी क्रिकेटर्स में ड्वेन ब्रावो (Dwayne Bravo), वाटसन का खेलना तय है. मध्यक्रम में धोनी के कंधों पर ही जिम्मेदीर रहेगी. स्पिन में इमरान ताहिर (Imran Tahir), रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) का खेलना तय है. इसके अलावा पीयूष चावला (Piyush Chawla) और मिशेल सैंटनर (Mitchel Saintner) में से एक चुना जा सकता है. तेज गेंदबाजी में शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur) और दीपक चाहर (Deppak Chahar) का नाम तय है. इन दोनों के अलावा ब्रावो रहेंगे ही.  लुंगी नगिदी (Lungi Nagidi) और जोस हेजलवुड (Jos Hazelwood) में से एक के लिए जगह बनाना या नहीं बनाना विकेट के हालात पर निर्भर रहेगा.

मुंबई की बल्लेबाजी है मजबूत
मुंबई की बात की जाए तो क्रिस लिन (Chris Lynn) के आने से उसकी बल्लेबाजी की मजबूती बढ़ गई है. हालांकि लिन केकेआर की तरह यहां ओपनिंग नहीं करेंगे. उसके लिए कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) पहले ही धाकड़ दक्षिण अफ्रीकी विकेटकीपर क्विंटन डि कॉक (Quinton De kock) का नाम क्लियर कर चुके हैं. रोहित और डि कॉक की जोड़ी ने पिछले साल 15 मैचों में 565 रन जोड़े थे. इसलिए इस जोड़ी ने दोबारा लय पकड़ी तो चेन्नई के गेंदबाजों को मैदान में कठिन समय बिताना पड़ सकता है. मध्य क्रम में मुंबई के पास सूर्यकुमार (SuryaKumar Yadav), ईशान किशन (Ishan Kishan), किरोन पोलार्ड (Kieron Pollard), हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) और क्रुणाल पांड्या (Krunal Pandya) की लंबी अनुभवी कतार है. 

गेंदबाजी में लसिथ मलिंगा (Lasith Malinga) नहीं हैं, लेकिन जेम्स पैटिनसन (James Pattinson), ट्रेंट बोल्ट (Trent Boult) और नाथन कोल्टर नाइल (Nathan Coulter nile) की तिकड़ी भी कम नहीं है. बाकी जसप्रीत बुमराह तो हैं ही. स्पिन में टीम के पास राहुल चाहर (Rahul Chahar) और क्रुणाल के कंधों पर ही टीम का भार होगा. साथ में हार्दिक और पोलार्ड का सहयोग भी इन सभी को रहेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *