Breaking News

In a Landmark Judgment ITAT orders payment of tax on Rs 196 crore Stashed abroad | सालाना 2 लाख से भी कम कमाने वाली महिला के खाते में मिले 196 करोड़, ITAT का अहम फैसला

नई दिल्ली: क्‍या सालाना एक लाख सत्‍तर हजार रुपये की कमाई वाले किसी शख्‍स का किसी विदेश बैंक में खाता हो सकता है?  जी हां, ऐसा ही है. एक लाख 70 हजार रुपये की वार्षिक कमाई घोषित करने वाली विदेशी बैंक खाताधारक महिला को 196 करोड़ रुपये विदेश में छुपाने के मामले में अब टैक्स देना होगा. इनकम टैक्‍स अपीलेट ट्रिब्यूनल (ITAT) मुंबई ने बुधवार को इस संबंध में अहम निर्णय देते हुए कहा कि विदेशी स्विस बैंक के व्यक्तिगत खाते में पड़ा 196 करोड़ रुपया टैक्स के दायरे में आता है.

ये भी पढ़ें:  रक्षाबंधन में भाई की कलाई पर बंधेगी मेड इन इंडिया राखी, चीन को 4000 करोड़ का नुकसान

महिला ने अपनी वार्षिक कमाई एक लाख 70 हजार रुपये दिखाई थी. इस प्रकार देखें तो विदेशी बैंक खाते में जमा धनराशि कमाने में उसे 15 हजार साल लगेंगे. इनकम टैक्स अपीलेट ट्रिब्यूनल ने रेनू टी थरानी की अपील को खारिज करते हुए एचएसबीसी प्राइवेट बैंक, जिनेवा में खाते की पुष्टि की.

जांच में दर्ज हुआ कि रेनू टी थरानी मदर टेरेसा की तरह कोई मशहूर हस्ती नहीं हैं कि उन्हें कोई अज्ञात व्यक्ति 4 मिलियन अमेरिकी डॉलर देने का भरोसा करे. इसके अलावा यह भी पता चला कि केमैन द्वीप परोपकारी कार्यों के लिए नहीं जाना जाता, बल्कि बेहिसाब धन और मनीलॉड्रिंग के लिए उसकी पहचान है.

ट्रिब्यूनल ने आगे कहा कि खाता धारक का लेन-देन के साथ गहरा नाता है और यह समझ से बाहर है कि महिला को इस कंपनी के बारे में कोई जानकारी नहीं है. जबकि एक बड़ी राशि का खुद को लाभार्थी बनाया हुआ है.

आपको बता दें कि आयकर विभाग द्वारा जारी नोटिस के जवाब में महिला ने विदेशी बैंक में खाता होने से इनकार कर दिया था और जांच दोबारा करने पर आपत्ति जताई थी.



Zee News Hindi: Business News
<

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *