Zee News Hindi: World News

नई दिल्लीः 101 साल की यह इटालियन महिला अपनी लाइफ में बहुत कुछ देख चुकी हैं. द्वितीय विश्व युद्ध, स्पैनिश फ्लू के बाद वह जानलेवा कोविड-19 महामारी  की जंग भी जीत चुकी हैं. जी हां, 101 साल की मारिया ओरसिंघेर का नाम हाल ही में कोरोना योद्धा (Corona Warriors) की लिस्ट में शुमार हो चुका है. दिलचस्प बात ये है कि मारिया कोरोना से एक या दो बार नहीं बल्कि तीन बार संक्रमित हुई हैं. 

मारिया के जज्बे को देख हैरान हैं डॉक्टर्स
मारिया ओरसिंघेर (Maria Orsingher) के कोविड-19 की चपेट में आने से इटली के डॉक्टर्स काफी हैरान थे, क्योंकि इतनी उम्र में जानलेवा महामारी का शिकार होना खतरे से खाली नहीं है. पहली बार वह फरवरी में कोविड-19 से संक्रमित हुई थीं. उनकी बेटी कार्ला (Carla) ने बताया कि ‘मैंने मां को फरवरी में सोंडालो में अस्पताल में भर्ती कराया था. पहली बार कोविड से ठीक होने के बाद, डॉक्टरों ने मुझे बताया कि उन्होंने कभी भी इतनी उम्रदराज व्यक्ति को कोरोना से इतना जल्द ठीक होते हुए नहीं देखा था. वे इस महामारी से आसानी से ठीक होकर अपने घर जा चुकी थीं. कोविड-19 के दौरान उन्हें सांस लेने में किसी असिस्टेंट की सहायता की भी जरूरत नहीं पड़ी थी और न ही उनका बुखार अधिक था.’

ये भी पढ़ें-Coronavirus के संकट के बीच इस साल IRAN को लगे ये बड़े 3 झटके, उबरना मुश्किल

जुलाई में मनाया था 101वां जन्मदिन
जुलाई में इस बुजुर्ग महिला ने अपना 101वां जन्मदिन सेलिब्रेट किया था. सितंबर में दोबारा उन्हें तेज बुखार आया और तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया. इसी दौरान उनका कोविड-19 टेस्ट कराया गया जिसमें वे पॉजिटिव पाई गईं. तब ओरसिंघर का 18 दिन तक हॉस्पिटल में इलाज चला. लोकल मीडिया के अनुसार, ओरसिंघेर की उम्र को ध्यान में रखते हुए अस्पताल में डॉक्टर्स ने उनके प्रति अधिक एहतियात बरती. हालांकि तीसरी बार उनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं दिखे.

ये भी पढ़ें-आतंकवादियों को ‘सैन्य सम्मान’ देता है पाकिस्तान? 26/11 के भगोड़े राणा ने की थी मांग

बेड रेस्ट पर हैं मारिया
फिलहाल मारिया ओरसिंघेर फिलहाल बेड रेस्ट पर हैं. वह सुन नहीं सकती हैं, इसलिए अपने बच्चों के साथ बातचीत करने में असमर्थ हैं. मारिया ओरसिंघेर का जन्म 21 जुलाई, 1919 को इटली के गग्गियो में हुआ था. उनकी बेटियों ने बताया कि डॉक्टर और नर्स मां का देखभाल कर काफी आश्चर्यचकित हैं. 9 माह की ड्युरेशन में उनकी मां तीन बार कोरोना पॉजिटिव पाई गईं और तीसरी बार भी उन्होंने इस महामारी को मात दे दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *